20 Best Adi Shankaracharya Quotes In Hindi

adi-shankaracharya-quotes-in-Hindi

(Motivational Adi Shankaracharya Quotes In Hindi, inspiring quotes of Adi Shankaracharya In Hindi) जगतगुरू आदि शंकराचार्य भारत के एक महान दार्शनिक, वैदिक विद्वान तथा हिंदू धर्म के धर्म प्रवर्तक थे। इनका जन्म 508 ईसवी पूर्व में केरल के कालड़ी नामक गांव में हुआ था। 32 साल की उम्र में ही उन्होंने केदारनाथ मंदिर के पीछे समाधि में देह त्याग कर दिया था। आइए जानते हैं जगतगुरू आदि शंकराचार्य के कुछ प्रेरक अनमोल विचार –

Adi Shankaracharya Quotes In Hindi – आदि शंकराचार्य के प्रेरणादायक सुविचार

1. “जैसे भट्टी में शुद्ध किया गया सोना अपनी अशुद्धियों को खो देता है और अपने वास्तविक स्वरूप को प्राप्त कर लेता है, वैसे ही मन ध्यान के माध्यम से भ्रम, आसक्ति और पवित्रता के गुणों की अशुद्धियों से छुटकारा पा लेता है और वास्तविकता को प्राप्त कर लेता है।”

2. “आसक्ति और द्वेष से भरे स्वप्न की भांति संसार जागरण तक वास्तविक प्रतीत होता है।”

3. “जब आपकी अंतिम सांस आ जाए, तो व्याकरण कुछ नहीं कर सकता।”

4. “इस प्रकार व्यक्ति को स्वयं को अस्तित्व-चेतना-आनंद (सत्-चित-आनंद) की प्रकृति के रूप में जानना चाहिए।”

5. “दुनिया, आसक्ति और द्वेष से भरे सपने की तरह जागृति तक वास्तविक लगती है।”

6. “लेकिन जीव अहंकार से संपन्न है और उसका ज्ञान सीमित है, जबकि ईश्वर अहंकार रहित है और सर्वज्ञ है।”

7. “प्रत्येक वस्तु अपने स्वभाव की ओर गति करती है। मैं सदैव सुख की कामना करता हूं जो कि मेरा वास्तविक स्वरूप है। मेरा स्वभाव मेरे लिए कभी बोझ नहीं है।”

8. “आप कभी भी अपने आप को अपने शरीर द्वारा डाली गई छाया से, या उसके प्रतिबिंब से, या उस शरीर से नहीं पहचानते जिसे आप सपने में या अपनी कल्पना में देखते हैं। इसलिए आपको इस जीवित शरीर के साथ भी अपनी पहचान नहीं बनानी चाहिए।”

9. “अपनी इन्द्रियों और मन को वश में करो और अपने हृदय में प्रभु के दर्शन करो।”

10. “अज्ञान, आलस्य, नीरसता, निद्रा, असावधानी और मूर्खता आदि तामस के गुण हैं। इनसे बंधा हुआ कुछ भी नहीं समझता, पत्थर की तरह मूर्च्छित रहता है।”

11. “वास्तविकता को केवल एक विद्वान द्वारा नहीं बल्कि समझ की आंखों से ही अनुभव किया जा सकता है।”

12. “सत्य की जांच क्या है? यह दृढ़ विश्वास है कि आत्मा वास्तविक है और उसके अलावा सब असत्य है।”

13. “भक्ति मुक्ति के लिए सर्वोच्च है। अपने वास्तविक स्वभाव की खोज ही भक्ति है।”

14. “यह जानते हुए कि मैं शरीर से भिन्न हूं, मुझे शरीर की उपेक्षा करने की आवश्यकता नहीं है। यह एक वाहन है जिसका उपयोग मैं दुनिया के साथ लेन-देन करने के लिए करता हूं। यह वह मंदिर है जिसके भीतर शुद्ध आत्मा रहती है।”

15. “भगवद गीता के स्पष्ट ज्ञान से मानव अस्तित्व के सभी लक्ष्य पूरे हो जाते हैं। भगवद गीता वैदिक शास्त्रों की सभी शिक्षाओं का प्रकट सार है।”

16. “धन का, लोगों का, सम्बन्धियों और मित्रों का या यौवन का अभिमान न करना। ये सब समय की पलक झपकते ही छीन लिया जाता है। इस मायावी संसार को त्याग कर परमात्मा को जानो और प्राप्त करो।”

17. “जिस प्रकार पत्थर, वृक्ष, तिनका, अनाज, चटाई, कपड़ा, घड़ा आदि जलने पर मिट्टी में मिल जाते हैं (जिससे वे आए हैं), उसी प्रकार शरीर और उसकी इन्द्रियां, ज्ञान की अग्नि में जलकर ज्ञान बन जाते हैं और ब्रह्म में लीन हो जाते हैं, जैसे सूर्य के प्रकाश में अंधकार।”

18. “मैंने जो खजाना पाया है उसका शब्दों में वर्णन नहीं किया जा सकता, मन इसकी कल्पना नहीं कर सकता।”

19. “ऊँची वाणी, शब्दों की प्रचुरता और शास्त्रों की व्याख्या करने में निपुणता केवल विद्वानों के आनंद के लिए है। वे मुक्ति की ओर नहीं ले जाते।”

20. “आत्मा के अलावा कौन अज्ञान, जुनून और स्वार्थी कार्रवाई के बंधनों को दूर करने में सक्षम है?”

उम्मीद है आपको यह आर्टिकल ‘20 Best Adi Shankaracharya Quotes In Hindi’ पसंद आया होगा, यदि पसंद आया हो तो इसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

यह भी पढ़ें

Leave a Comment